You Should Have Basic Computer Knowledge in Hindi

हेलो दोस्तों! Alertsvala पर आपका स्वागत है। आज में आपको  basic computer knowledge in Hindi में  बताने वाला हु। आज हम बात वाले है की कप्यूटर की खोज किसने की? कप्यूटर के प्रकार कितने है? कंप्यूटर कहा-कहा उपयोग होता है? कंप्यूटर में कितने बदलाव हुए? इससे रिलेटेड में आपको सभी प्रकार की जानकारी देने की प्रयास करूँगा। 

दोस्तों! जैसा की आप जानते है की आज के ज़माने में कोई भी कार्य कंप्यूटर के भीना संभव नहीं है, चाहे वो कोई  जानकारी की लेन-देन करने की बात हो या तो कोई गणना करने की बात हो आज के समय में कंप्यूटर के बिना बहुत मुश्किल है। कंप्यूटर एक बहुत ही तेज़ मशीन है जिसे इंसानो द्वारा बनाया गया है। कंप्यूटर कोई भी काम करने में सक्षम है। 

में आज आपको कंप्यूटर के बारे में बेसिक जानकारी देने वाला हु, जिसकी मदद से आप कही भी किसी भी जगह पर अगर वह पर कंप्यूटर है तो आप उसे चला सकते है। इस आर्टिकल की मदद से आप कंप्यूटर में बेसिक ऑपरेशन कर सकते है और भी बहुत कुछ काम निपटा सकते है। 

Computer knowledge in Hindi में आपको समजने का हमारा एक ही गोल है ताकि आपको अच्छे से समज में आये और आप आसानीसे अच्छा कंप्यूटर चला सके। हमारे यहाँ भारत में सभी लोग हिंदी भाषा को ज्यादा महत्व देते है इसीसलिए हमने भी आपके लिए Computer knowledge in Hind में लिखा

कंप्यूटर क्या है? – What is Computer?

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो यूजर( कंप्यूटर को चलने वाला ) से एक इनपुट लेता है और उस इनपुट को प्रोसेस करके कुछ आउटपुट देता है। आसान शब्दों में बोले तो कंप्यूटर एक ऐसा डिवाइस है जिसे उसे चलने वाला कोई काम देता है और कंप्यूटर उसे पूरा करके रिजल्ट देता है। 

Input – जो यूजर कंप्यूटर को निर्देश देता है देता है उसे इनपुट कहते है। 

Processing – यूजर ने जो निर्देश दिया है उसका रिजल्ट लाने की प्रोसेस को प्रोसेसिंग कहते है। 

Output – जो भी रिजल्ट कंप्यूटर ने जेनेरेट किया है उसको आउटपुट कहते है। 

Input – Processing – Output

कंप्यूटर का का आविष्कार कैसे हुआ?

कंप्यूटर के father के रूप में Charles Babbage जाना जाता है। Charles Babbage ने सबसे पहले एक कंप्यूटर डिज़ाइन किया था जिसे Analytical Engine के नाम से जाना जाता है। दुनिया का पहला कंप्यूटर 1946 में बनकर कम्पलीट हुआ था। वह कंप्यूटर तक़रीबन 1800 फ़ीट हुआ था और 50 टन वजन था। 

आशा है की अब आप कंप्यूटर के इतिहास के बारे में थोड़ा बहोत आईडिया हो गया होगा। अब में आपको computer की generations के बारे में बताने वाला हु। कंप्यूटर के अविष्कार बाद कंप्यूटर को और बहेतर बनाने के लिए उसमे लगातार बदलाव किये जाते और इस बदलाव को हम computer generations के नाम से जानते है। 

कंप्यूटर के शोधकर्त्ता 

Charles Babbage who invented computer.

Charles Babage – ये एक कंप्यूटर की दुनिया में Charles Babage का बहुत बड़ा योगदान रहा है। Charles Babage ने सबसे पहले Analytic Engine नामका कंप्यूटर बनाया था। इस कंप्यूटर में ALU, basic controls और Memory जैसे कॉन्सेप्ट को अप्लाई किया गया था। हलाकि आज के समय में भी इस कॉन्सेप्ट पे ही  कंप्यूटर डिज़ाइन किये जाते है। 

दोस्तों! अब ये सब जानने के बाद आपमें थोड़ा computer knowledge in hindi है।चलिए अब में इन सभी computer generations के बारे में थोड़ा संक्षिप्त में बताता हु। 

computer की generations in Hindi 

1. First Generation( 1940-1956 ) – Vacuums Tubes 

2. Second Generation( 1956-1963 ) – Transistors

3. Third Generation( 1964-1971 ) – Integrated Circuits

4. Forth Generation( 1971-1985 ) – Microprocessors

5. Fifth Generation( 1985-present ) – Artificial Intelligence

1. First Generation( 1940-1956 ) – Vacuums Tubes 

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी में वैक्यूम टुब्स का उपयोग होता था। वैक्यूम टुब्स आकर में बहुत बड़ी होती थी। यह टुब्स गर्मी बहार निकल ने में मदद करती थी, लेकिन वैक्यूम टुब्स इतनी  सफल नहीं हो पायी। कई बार वैक्यूम टुब्स ज्यादा हीट बहार नहीं निकल पा रही थी उसकी वजह से malfunction फ़ैल हो जाता था। 

1940 से लेकर 1956 तक जितने भी कंप्यूटर बनाये गए वैक्यूम टुब्स का उपयोग होता था। वैक्यूम टुब्स UNIVAC and ENIAC computers में उपयोग की जाती थी। 

2. Second Generation( 1956-1963 ) – Transistors

 कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी में वैक्यूम टुब्स की जगह ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा। Transistors कद में छोटे थे, इसकी स्पीड ज्यादा थी, सस्ते भी थे इसीलिए ये एक बहेतर ऑप्शन साबित हो सकता था। Transistors वैक्यूम टुब्स के मुकाबले छोटे और Energy Efficient थे। 

क्या आप जानते है how to hack instagram id wikipedia in hindi

1956 से 1963 तक जो भी computer बनाये गए उसमे Transistors का उपयोग किया जाता था। हलाकि, ये वैक्यूम टुब्स से बहेतर थे लेकिन हीट की समस्या तो अभी भी थी। जो computers high level programming language को support करते थे उसमे transistors का उपयोग किया जाता था। 

3. Third Generation( 1964-1971 ) – Integrated Circuits

कंप्यूटर की तीसरी पढ़ी में पहेली बार Integrated Circuit का  कॉन्सेप्ट लागु किया गए। Integrated Circuit का मतलब एक Circuit के अंदर छोटे छोटे कई सरे Transistors लगाए जाते है। इससे कंप्यूटर की प्रोसेसिंग क्षमता कई ज्यादा बढ़ जाती है। 

1964 से लेकर 1971 जो भी कंप्यूटर बने उसमे Integrated Circuit का उपयोग किया गया था। ये कंप्यूटर इतने सक्षम थे की इस कंप्यूटर के साथ बहार से कीबोर्ड, माउस और लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम ( कंप्यूटर को चलने वाला सॉफ्टवेयर ) का उपयोग किया गया था। 

4. Forth Generation( 1971-1985 ) – Microprocessors

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी में हम बहुत आगे निकल चुके थे। अब हमने microprocessor को डेवेलोप कर लिया था। Microprocessor को कई सारी Integrated Circuit को मिला कर बनाया गया था। Microprocessor एक बहुत ही बढ़िया टेक्नोलॉजी है जिसका उपयोग आज के समय में भी होता है। 

अब कंप्यूटर एक बहुत शक्तिशाली मशीन बन गया था। अब कंप्यूटर बहुत बड़ी बड़ी कॅल्क्युलेशन्स कर सकता था। 

5. Fifth Generation( 1985-present ) – Artificial Intelligence

कंप्यूटर के युग में ये एक बहुत बड़ी क्रांति है। ये एक बहुत ही अगले लेवल की टेक्नोलॉजी है या तो आप कह सकते है की ये एक एडवांस तकनीक है। Artificial Intelligence ये एक ऐसे  कंप्यूटर है जो किसी भी प्रकार की गणना कर सकते है। 

Artificial Intelligence का उपयोग Quantum Calculations, Speech Recognition, Space Calculations जैसी किसी भी प्रकार की गणन कर सकते है। Artificial Intelligence के तहत automation भी ज्यादा हो गया है।   

आशा है की आप को अभी तक कंप्यूटर की पीढ़िया की सारी जानकारी मिल गई होगी। अब में आपको Computer knowledge in Hindi का अगला भाग समजने वाला हु की कंप्यूटर काम कैसे करता है

कंप्यूटर कैसे काम करता है ? – how the computer works?

Computer का फुल फॉर्म Common Operating Machine Purposely used for Technological and Educational research होता है। इस व्याख्या का मतलब एक ऐसा मशीन जो आसानी से उपयोग में ले सके और जिसका उपयोग तकनीकों में और पढाई के क्षेत्रो में नई-नई शोध के लिए किया जाये। 

कंप्यूटर के दो पार्ट्स है। 1) Hardware 2) Software 

इन दोनों भाग से कंप्यूटर बनता है, कंप्यूटर का पहला भाग Hardware जरुरी है कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए और कंप्यूटर का दूसरा भाग Software कंप्यूटर को प्रोसेस करने के लिए जरुरी है। 

1) Hardware 

हार्डवेयर के अंदर भी कई भाग का समावेश होता है जैसा की Memory, Motherboard, RAM, Processor, etc. इन सभी हार्डवेयर को मिला कर कंनेक्ट कर के एक कंप्यूटर बनाया जाता है। ये सभी पार्ट्स का अपना अपना अलग अलग काम है जो सभी मिल कर करते है। 

i) Motherboard 

Motherboard - basic knowledge of computer in hindi
Motherboard – basic knowledge of computer in hindi

ये कंप्यूटर के अंदर मुख्य सर्किट होता है जिसे motherboard कहा जाता है। Motherboard इन सभी पार्ट्स को जोड़ता है ये सभी पार्ट्स मोठेर्बोर्ड के अंदर जुड़ते है।  जैसे की processor, RAM, Hard disk आदि. पार्ट्स इसमें जुड़ते है। Motherboard एक ऐसा सर्किट बोर्ड होता है जो सभी पार्ट्स को जोड़कर सबको कनेक्टेड रखता है। 

ii) RAM – Random Access Memory 

RAM - Random Access Memory
RAM – Random Access Memory

Ram ये कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण पार्ट है। रेम के बिना कंप्यूटर नहीं चल सकता। RAM का काम किसी भी प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर को चलना होता है। जब भी आप कोई सॉफ्टवेयर चलते जो तो वो पहले RAM में लोड होता है और बाद में स्टार्ट होता है। 

iii) ROM – Read Only Memory 

ROM - Read Only Memory
ROM – Read Only Memory

ROM का काम कंप्यूटर में जानकारी संग्रह करने का होता है। रोम रेम जे बड़ी होती है। जो भी प्रोग्राम यतो फोटोज, वीडियो, कोई डॉक्यूमेंट  अपने कंप्यूटर में संग्रह करते हो वो रोम में स्टोर होता है। रोम में जानकरी परमेनेंट स्टोर होती है। 

iv) Processor 

CPU - Central Processing Unit
CPU – Central Processing Unit

Processor को CPU( Central Processing Unit ) भी कहा जाता है। जो भी इनपुट यूजर देता है वह इनपुट प्रोसेसर के पास आता है और वो इनपुट प्रोसेस होने के बाद वापस प्रोसेसर आउटपुट डिवाइस जैसे की मॉनिटर के पास भेजता है। प्रोसेसर का काम डाटा/ जानकारी को प्रोसेस करने का होता है। 

दोस्तों! ये तो हो गया computer hardware कैसे काम करता है। अब में आपको बताऊंगा कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है। 

2) Computer Software 

कंप्यूटर के अंदर कई सरे सॉफ्टवेयर होते है लेकिन उसमे एक सॉफ्टवेयर मुख्या होता है जिसे Operating System कहते है। जैसे की Windows 10, Mac OS, Linux और भी कई सरे। 

Operating System एक माध्यम है यूजर और कंप्यूटर के बिच में। कंप्यूटर हमारी भाषा नहीं समाज सकता। कंप्यूटर 0 और 1 ये दो अंक ही समाज सकता है और इन दो अंको को मिलकर शब्दों, नंबर और टास्क कम्पलीट करता है। 

हम कंप्यूटर को इनपुट देते है कंप्यूटर Operating System की मदद से उस इनपुट को समज कर प्रोसेस करने के बाद आउटपुट देता है। 

इसके आलावा भी कंप्यूटर में कई महत्वपूर्ण पार्ट होते है लेकिन ये computer knowledge in Hindi है। इसीसलिए आपके लिए इतना काफी है। तो दोस्तों अब हमने कंप्यूटर को जान लिया है की वह कैसे काम करता है। 

कंप्यूटर के प्रकार – Types of Computer 

हल के समय में कई प्रकार के टाइप्स है जैसे की डेस्कटॉप, लैपटॉप और टेबलेट। ये सभी डिवाइस अलग अलग काम के लिए उपयोगी है। 

Desktop – इस प्रकार के कंप्यूटर आपको हॉस्पिटल, एजुकेशनल संस्था, ऑफिस में इन सभी जागर पर देखने को मिलते है। 

Laptop – इस प्रकार के कंप्यूटर में बेट्टेरी in-build होती है जिसकी वजह से किसी भी जगह पर उपयोग किया जाता है।

Tablet – ये कंप्यूटर handuse कह सकते है। क्यों की इस कंप्यूटर में आप अपने हाथ से आसानी से कोई भी काम कर सकते है। 

Server – ये बहुत ही पावरफुल कंप्यूटर होते है, जिसका उपयोग बड़ी बड़ी कम्पनिया जैसे की गूगल, फसेबूक इसका उपयोग करते है। 

कंप्यूटर का उपयोग – Application of Computer in Hindi

जैसा की आप जानते है की आज के समय में कंप्यूटर के बिना कोई भी काम सक्या नहीं है। में आपको कुछ उदहारण देता हु। 

Defence( आर्मी ) – आर्मी क्षेत्र में कंप्यूटर का बहुत ही ज्यादा योगदान है। देश की रक्षा के लिए हाई-तकनिकी राडार, हाई-एन्ड कंप्यूटर जैसी टेक्नोलॉजी हमें दूसरे देश के अटैक से रक्षा देती है। 

Government – अब तो सरकार भी कंप्यूटर का उपयोग कर रही है चाहे कोई न्यूज़ फेलनि हो या फिर कोई हेल्थ की सॉफ्टवेयर जैसे की Arogya Setu app ये गवर्नमेंट का बेस्ट उदाहरण है। 

Health and Medicine: हल के समय में कंप्यूटर की वजह से आसानी से रोग का पता चल जाता है। आपके अंदर लक्षण दिखने से ही इसका पता चल जाता यही और कंप्यूटर आपको दवाइया भी suggest कर देता है। कंप्यूटर की वजह से कई सरे ऑपरेशन भी आसान हो गए है। 

शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग: कंप्यूटर शिक्षा में एक अहम् भूमिका निभा रहा है। हल के समय में online classes चल रही है तब कोई दिक्क्त नहीं होती क्योकि कंप्यूटर है इसीलिए आसान है। विद्यार्थी कोई भी माहिती इंटरनेट से ले सकता है और अपने आप खुद से पढ़ सकता है। 

दोस्तों! जैसा की आपने देखा की और भी ऐसे कई सरे क्षेत्र है जिसमे हम कंप्यूटर का उपयोग कर सकते है और इस समय में computer knowledge in Hindi रखना बहुत जरुरी है। 

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Hello Guest